जिंदा है ZINDA HAI Song Lyrics

ZINDA HAI Song Lyrics

Zinda Hai Lyrics, from the movie Tiger Zinda Hai. This song is sung by Sukhwinder Singh, Raftaar and the movie was released in the year 2018. Music was composed by Vishal-Shekhar and lyrics were penned by Irshad Kamil, Raftaar.

Movie Details

Movie: Tiger Zinda Hai 

Singer/Singers: Sukhwinder Singh, Raftaar

Music Director: Vishal-Shekhar

Lyricist: Irshad Kamil, Raftaar

Year/Decade: 2018

Music Label: YRF Music

Song Lyrics in English Text

Sehra saahil jungle basti bagh woh
Shola shola jalta charaag woh
Ho.. parvat paani aandhi ambar aag woh
Shola shola jalta charaag woh

Har kaali raat se ladta hai woh
Jalta hai aur nikharta hai
Aage hi aage badhta hai
Jab tak zinda hai

Kahin par toofaan abhi zinda hai
Jazbon mein jaan abhi zinda hai
Saagar khamoshi mein bhi
Saagar hi rehta hai
Leharon se kehta hai
Woh zinda hai

Bheetar toofaan abhi zinda hai
Jazbon mein jaan abhi zinda hai

Raaton ke saaye mein hai woh chhupa
Dushman na dekhega kal ki subah
Kahaan se aaya wo kahaan hai jaata
Na mujhko pata hai na tujhko pataa
Haan wo nihattha hi shatru karta nirast
Bhes badalta wo jaise ho wastra
Jadse ukhaadega bheetar se maarega
Uska iraada hai Brahma ka antar wo gyaani hai
Hai swaabhimani wohi
Tu jaantaa uski kahaani nahi
Zinda hai zinda rahega wo
Jab tak bhi marne ki usne hi thaani nahi

Ghairat gussa chahat aur malaal woh
Ziddi ziddi ziddi khayaal woh
Hai jung bhi hai woh hamla bhi aur jaal wo
Ziddi ziddi ziddi khayaal woh

Sholon ki aankh mein rehta hai
Har sacchi baat woh kehta hai
Laawa sa ragon mein behta hai
Jab tak zinda hai!

Bheetar toofaan abhi zinda hai
Jazbon mein jaan abhi zinda hai
Saagar khamoshi mein bhi
Saagar hi rehta hai
Leharon se kehta hai
Woh zinda hai (x2)

Song Lyrics in Hindi Text

शेहरा साहिल जंगल बस्ती बाग वो
शोला शोला जलता चिराग वो

हो.. पर्वत पानी आंधी अम्बर आग वो
शोला शोला जलता चिराग वो

हर काली रात से लड़ता है वो
जलता और निखरता है वो
आगे ही आगे बढ़ता जबतक
जिंदा है..

भीतर तूफान अभी जिंदा है
ज़ज्बों में जान अभी जिंदा है

सागर खामोशी में भी
सागर ही रहता है
लहरों से कहता है वो
जिंदा है है..

भीतर तूफान अभी जिंदा है
ज़ज्बों में जान अभी जिंदा है

रातों के शाये में है वो छुपा
दुश्मन न देखेगा कल की सुबह
कहाँ से आया वो
कहाँ है जाता
ना मुझको पता है
ना तुझको पता
हाँ वो निहता ही
शत्रु को करता निरस्त

वेष बदलता है जैसे हो वस्त्र
झट से उखड़ेगा
भीतर से मरेगा
उसका इरादा है
ब्रह्मा का अंतर वो ज्ञानी है
है स्वाभीमानी वही
तू जनता उसकी कहानी नहीं

जिंदा है जिंदा रहेगा वो
जब तक की मरने की
उसने ही ठानी नहीं

गैरत गुस्सा चाहत और मलाल वो
जिद्दी जिद्दी जिद्दी ख्याल वो
हे.. जंग भी है वो हमला भी और
जाल वो
जिद्दी जिद्दी जिद्दी ख्याल वो

शोलों की आँख में रहता है
हर सच्ची बात वो कहता है
लावा सा रगों में बहता है वो
जब तक जिंदा है

भीतर तूफान अभी जिंदा है
ज़ज्बों में अभी जान जिंदा है

सागर खामोशी में भी
सागर ही रहता है
लहरों से कहता है
वो जिंदा है है

भीतर तूफान अभी जिंदा है
ज़ज्बों में जान अभी जिंदा है