तेरे बिना TERE BINA Song Lyrics

TERE BINA Song Lyrics

Tere Bina Lyrics, from the movie 1921. This song is sung by Arijit Singh, Aakanksha Sharma and the movie was released in the year 2018. Music was composed by Asad Khan and lyrics were penned by Raqueeb Alam .

Movie Details

Movie: 1921 

Singer/Singers: Arijit Singh, Aakanksha Sharma

Music Director: Asad Khan

Lyricist: Raqueeb Alam

Year/Decade: 2018

Music Label: Zee Music Company

Song Lyrics in English Text

Tere bina marz aadha adhoora hai
Ek dhundh hai
Shaam hai naa savera hai
Tanha hoon main
Phir bhi tanha nahi
Darr yeh hai ke fanaa ho na jaaun
Aa jaa na…
Nigaahon se ilzaam de
Adaaon se paigaam de
Koi toh mujhe naam de
Ishq hai bad-gumaan (x2)

Tu nadi ka kinaara
Gumnaam saa main hoon safeena

Tu hai mausam bahaara
Sookhi sookhi main heena
Jaan meri hai phasi ek mulaaqat mein

Kaise main ab jeeyun
Aise halaat mein
Sar pe gham ka hai jo aasmaan

Tere bina marz aadha adhoora hai
Ek dhundh hai
Shaam hai naa savera hai
Tanha hoon main
Phir bhi tanha nahi
Darr yeh hai ke fanaa ho na jaaun

Besabar ho rahi hai ye meri baahein
Tu kahaan hai?
Benazar ho rahi hai yeh nigaahein
Tu kahaan…?

Apne dil se mera haq mitaane lage
Mere har khwaab ko tum jalane lage
Dil mein bharne laga hai dhuaan…

Tere bina marz aadha adhoora hai
Ek dhundh hai
Shaam hai naa savera hai
Tanha hoon main
Phir bhi tanha nahi
Darr yeh hai ke fanaa ho na jaaun

Aa ja naa…
Nigahon se ilzaam de
Adaaon se paigaam de
Koi toh mujhe naam de
Ishq hai badgumaan…

Song Lyrics in Hindi Text

तेरे बिना मर्ज आधा अधुरा है
इक धुंध है शाम है न सबेरा है
तन्हा हूँ मैं फिर भी तन्हा नहीं
डर ये है के फन्ना हो ना जाऊं

(आजा ना निगाहों से इल्जाम दे
अदाओं से पैगाम दे
कोई तो मुझे नाम दे
इश्क है बदगुमां) x २

तू नदी का किनारा
गुमनाम सा मैं.. हूँ सफ़ीना

तुम मौसम बहरा सुखी सुखी
मैं ही ना जा मेरी है फसी
एक मुलाकात में
कैसे मैं जिउं ऐसे हालत में
सर पे गम है आसमां..

तेरे बिना मर्ज आधा अधुरा है
इक धुंध है शाम है न सबेरा है
तन्हा हूँ मैं फिर भी तन्हा नहीं
डर ये है के फन्ना हो ना जाऊं

बेसबर हो रही है
ये मेरी बाहें, तू कहाँ है
बेनज़र हो रही है
ये निगाहें, तू कहाँ है

अपने दिल से मेरा हक
मिटा ने लगे
मेरे हर खवाब को
तुम जलने लगे
दिल में भरने लगा है धुंआ..

तेरे बिना मर्ज आधा अधुरा है
इक धुंध है शाम है न सबेरा है
तन्हा हूँ मैं फिर भी तन्हा नहीं
डर ये है के फन्ना हो ना जाऊं

आजा ना निगाहों से इल्जाम दे
अदाओं से पैगाम दे
कोई तो मुझे नाम दे
इश्क है बदगुमां..