ज़िद्दी है दिल Ziddi Hai Dil Song Lyrics

Ziddi Hai Dil Song Lyrics

Ziddi Hai Dil Lyrics, from the movie Namaste England. This song is sung by Mannan Shaah and the movie was released in the year 2018. Music was composed by Mannan Shaah and lyrics were penned by Javed Akhtar.

Movie Details

Movie: Namaste England 

Singer/Singers: Mannan Shaah

Music Director: Mannan Shaah

Lyricist: Javed Akhtar

Year/Decade: 2018

Music Label: Sony Music India

Song Lyrics in English Text

Ziddi hai dil sunta nahi
Ke mushqil hai kya
Ziddi hai dil sunta nahi
Ke mushqil hai kya

Behlaun main
Lakh samjhaaun main
Magar dil hatheela kahey…

Tum hi iski ho tamanna
Tum hi iski aarzoo
Dil hai mera ik jazeera
Tum samandar chaar su

Dil ka main kya karun
Main jiyun ya marun
Kya karun kya karun
Tum kaho kya karun

Kehta hai yeh dil
Zindagi raat hai aur tum roshni
Rehta hai yeh dil
Khwabon ki duniya me jo hai tumse bani
Sehta hai yeh dil
Tum bin ik aisi rut hai jo tanhaai ki
Behta hai yeh dil
Dard ki uss nadi mein jo hai beh rahi

Saari majbooriyan
Paa gayi hai darmiyan
Magar dil hatheela kahey…

Tum hi iski ho tamanna
Tum hi iski aarzoo
Dil hai mera ik jazeera
Tum samandar chaar su

Dil ka main kya karun
Main jiyun ya marun
Kya karun kya karun
Tum kaho kya karun

Soya hai yeh dil
Bas tumhare haseen sapno ki baahon mein
Khoya hai yeh dil
Beete lamhon ko jaati huyi raahon mein
Goya hai yeh dil
Aaj bhi unn mohabbat bhari baaton mein
Roya hai yeh dil
Yaad karke tumhein chandani raaton mein

Gehri mayusiyan chha rahi hain yahaan
Magar dil hatheela kahey…

Tum hi iski ho tamanna
Tum hi iski aarzoo
Dil hai mera ik jazeera
Tum samandar chaar su

Dil ka main kya karun
Main jiyun ya marun
Kya karun kya karun
Tum kaho kya karun

Kya karun kya karun
Main kya karun

Song Lyrics in Hindi Text

ज़िद्दी है दिल सुनता नहीं
के मुश्किल है क्या
ज़िद्दी है दिल सुनता नहीं
के मुश्किल है क्या

बहलाऊं में लाख समझाऊं मैं
मगर दिल हठीला कहे
तुम ही इसकी हो तमन्ना
तुम ही इसकी आरज़ू
दिल है मेरा एक जज़ीरा
तुम समंदर जानसु

दिल का मैं क्या करूँ
मैं जियूं या मरूं
क्या करूँ, क्या करूँ
तुम कहो क्या करूँ

कहता है ये दिल
ज़िन्दगी रात है और तुम रौशनी
रहता है ये दिल
ख़्वाबों की दुनिया में जो है तुमसे बनी
सेहता है ये दिल
तुम बिन एक ऐसी रूत है जो तन्हाई की
बहता है ये दिल
दर्द की उस नदी में जो है बह रही

सारी मजबूरियां पा गयी है दरमियां
मगर दिल हठीला कहे
तुम ही इसकी हो तमन्ना
तुम ही इसकी आरज़ू
दिल है मेरा एक जज़ीरा
तुम समंदर जानसु

दिल का मैं क्या करूँ
मैं जियूं या मरूं
क्या करूँ, क्या करूँ
तुम कहो क्या करूँ

सोया है ये दिल
बस तुम्हारे हसीं सपनों की बाहों में
खोया है ये दिल
बीते लम्हों को जाती हुयी राहों में
गोया है ये दिल
आज भी उन मोहब्बत भरी बातों में
रोया है ये दिल
याद करके तुम्हें चांदनी रातों में

गहरी मायूसियां छा रही हैं यहाँ
मगर दिल हठीला कहे
तुम ही इसकी हो तमन्ना
तुम ही इसकी आरज़ू
दिल है मेरा एक जज़ीरा
तुम समंदर जानसु

दिल का मैं क्या करूँ
मैं जियूं या मरूं
क्या करूँ, क्या करूँ
तुम कहो क्या करूँ
क्या करूँ, क्या करूँ
मैं क्या करूँ