कुछ इस तरह KUCH ISS TARAH Song Lyrics

KUCH ISS TARAH Song Lyrics

Kuch Iss Tarah Lyrics, from the movie 1921. This song is sung by Arnab Dutta and the movie was released in the year 2018. Music was composed by Harish Sagane and lyrics were penned by Shakeel Azmi.

Movie Details

Movie: 1921 

Singer/Singers: Arnab Dutta

Music Director: Harish Sagane

Lyricist: Shakeel Azmi

Year/Decade: 2018

Music Label: Zee Music Company

Song Lyrics in English Text

Hmmm…

Kuch iss tarah
Kuch iss tarah
Ae raat tham zaraa
Kuch iss tarah

Kuch is tarah
Kuch is tarah
Ae raat tham zaraa
Kuch is tarah
Do jism se ek jaan mein
Dhal jaaye hum zara
Kuch iss tarah

Ye jo chand ik laqeer sa hai aasmaan par
Yunhi aankh mein meri reh chamakta raat bhar

Ae baadalon zaraa si tum se ilteja hai yeh
Fanaa na ho ummeed ke sitaare doob kar

Kuch iss tarah
Kuch iss tarah
Ae raat tham zaraa
Kuch iss tarah
Do jism se ek jaan mein
Dhal jaaye hum zara
Kuch iss tarah

Alvida humko kahe
Muskura ke maut bhi
Thodi si saansein chhupa le
Seene mein kahin

Jee le aa ikk raat mein
Umr bhar ki zindagi
Koi bhi pal reh na jaaye
Jeene mein kahin

Kuch iss tarah
Kuch iss tarah
Ae raat tham zaraa
Kuch iss tarah
Do jism se ek jaan mein
Dhal jaaye hum zara
Kuch iss tarah

Rooh ki parwaaz pe hai parindey ishq ke
Humko chaahat ki nazar se dekh aasmaan
Aankh mein jo ashq hai
Chand ko bhi rashk hai
Likh rahe hain pyar ki hum aisi daastaan

Kuch iss tarah
Kuch iss tarah
Ae raat tham zaraa
Kuch iss tarah
Do jism se ek jaan mein
Dhal jaaye hum zara
Kuch iss tarah

Song Lyrics in Hindi Text

हम्म हम्म..

कुछ इस तरह
कुछ इस तरह
ऐ रात थम ज़रा
कुछ इस तरह

कुछ इस तरह
कुछ इस तरह
ऐ रात थम ज़रा
कुछ इस तरह
दो जिस्म से एक जान में
ढल जाए हम ज़रा
कुछ इस तरह

ये जो चाँद लकीर सा है
आसमान पर
यूँ ही आँख में मेरी रहे
चमकता रात भर

ऐ बादलों ज़रा सी
तुमसे इल्तजा है ये
फ़ना न हो उम्मीद के
सितारे डूबकर

कुछ इस तरह
कुछ इस तरह
ऐ रात थम ज़रा
कुछ इस तरह

अलविदा हमको कहे
मुस्कुरा के मौत भी
थोड़ी सी सांसें छुपा ले
सीने में कहीं

जी ले आ एक रात में
उम्र भर की ज़िन्दगी
कोई भी पल रह न जाये
जीने में कहीं

कुछ इस तरह
कुछ इस तरह
ऐ रात थम ज़रा
कुछ इस तरह
दो जिस्म से एक जान में
ढल जाए हम ज़रा
कुछ इस तरह

रूह की परवाज़ पे है
परिंदे इश्क के
हमको चाहत की नज़र से
देख आसमान
चाँद को भी रश्क है
लिख रहे हैं प्यार की
हम ऐसी दास्तां

कुछ इस तरह
कुछ इस तरह
ऐ रात थम ज़रा
कुछ इस तरह
दो जिस्म से एक जान में
ढल जाए हम ज़रा
कुछ इस तरह