काफ़िराना Qaafirana Song Lyrics in Hindi

काफ़िराना Qaafirana Song Lyrics in Hindi

Qaafirana Sa Hai, Song Lyrics from Movie Kedarnath. This Song sung by Amit Trivedi, Arijit Singh, Nikita Gandhi, Dev Negi, Asees Kaur. Music given by Amit Trivedi & Lyrics written by Amitabh Bhattacharya. Star cast of this movie are Alka Amin, Arun Bali, Faiz Khan, Mir Sarwar, Nishant Dahiya, Nitish Bharadwaj, Pooja Gor, Sara Ali Khan, Sharad Vyas, Sonali Sachdev, Sunita Rajwar, Sushant Singh Rajput

Movie Details

Movie: Kedarnath

Singer/Singers: Amit Trivedi, Arijit Singh, Nikita Gandhi, Dev Negi, Asees Kaur

Music Director: Amit Trivedi

Lyricist: Amitabh Bhattacharya

Actors/Actresses: Alka Amin, Arun Bali, Faiz Khan, Mir Sarwar, Nishant Dahiya, Nitish Bharadwaj, Pooja Gor, Sara Ali Khan, Sharad Vyas, Sonali Sachdev, Sunita Rajwar, Sushant Singh Rajput

Year/Decade: 2018

Music Label: Zee Music Company

Song Lyrics in English Text

In Wadiyo Me Takra Chuke Hai
Humse Mushafir Yun To Kayi
Dil Na Lagaya Humne Kisi Se
Kisse Sune Hai Yun To Kayi
Aise Tum Mile Ho Aise Tum Mile Ho
Jaise Mil Rahi Ho Itr Se Hawa
Qafirana Sa Hai Ishq Hai Ya Kya Hai
Aise Tum Mile Ho Aise Tum Mile Ho
Jaise Mil Rahi Ho Itr Se Hawa
Kafirana Sa Hai Ishq Hai Ya Kya Hai

Khamoshiyo Me Boli Tumhari
Kuch Is Tarah Gunjti Hai
Kano Se Mere Hote Huye Wo
Dil Ka Pata Dhundhti Hai
Beswadiyo Me Beswadiyo Me
Jaise Mil Raha Ho Koyi Zayka
Qafirana Sa Hai Ishq Hai Ya Kya Hai
Aise Tum Mile Ho Aise Tum Mile Ho
Jaise Mil Rahi Ho Itr Se Hawa
Qafirana Sa Hai Ishq Hai Ya Kya Hai

Godi Mei Pahadiyo Ki Ujli Dopahri Guzarna
Haye Haye Tere Sath Me Acha Lage
Sharmili Akhiyon Se Tera Meri Nazre Utarna
Haye Haye Har Baat Pe Acha Lage
Dhalti Shaam Ne Bataya Hai
Ki Door Manzil Pe Raat Hai
Mujhko Tasalli Hai Yeh
Ke Hone Talak Raat Hum Dono Saath Hai
Sang Chal Rahe Hai Sang Chal Rahe Hai
Dhoop Ke Kinaare Chhaon Ki Tarah
Qafirana Sa Hai Ishq Hai Ya Kya Hai
Aise Tum Mile Ho Aise Tum Mile Ho
Jaise Mil Rahi Ho Itr Se Hawa
Qafirana Sa Hai Ishq Hai Ya Kya Hai

Song Lyrics in Hindi Text

इन वादियों में टकरा चुके हैं
हमसे मुसाफ़िर यूँ तो कई
दिल ना लगाया हमने किसी से
किस्से सुने हैं यूँ तो कई
ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क है या क्या है
ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क है या क्या है
ख़ामोशियों में बोली तुम्हारी
कुछ इस तरह गूंजती है
कानो से मेरे होते हुए वो
दिल का पता ढूंढती है
बेस्वादियों में, बेस्वादियों में
जैसे मिल रहा हो कोई ज़ायका
काफ़िराना सा है
इश्क है या क्या है
ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क हैं या क्या है
ला ला ला ला..
आहा हा आहा..
गोदी में पहाड़ियों की
उजली दोपहरी गुज़रना
हाय हाय तेरे साथ में
अच्छा लगे..
शर्मीली अंखियों से
तेरा मेरी नज़रें उतरना
हाय हाय हर बात पे
अच्छा लगे..
ढलती हुई शाम ने
बताया है की
दूर मंजिल पे रात है
मुझको तसल्ली है ये
के होने तलक रात
हम दोनों साथ है
संग चल रहे हैं
संग चल रहे हैं
धुप के किनारे
छाव की तरह..
काफ़िराना सा है
इश्क हैं या क्या है
हम्म.. ऐसे तुम मिले हो
ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो
इत्र से हवा
काफ़िराना सा है
इश्क हैं या क्या है