Yaha Mai Ajnabi Hu Lyrics

Song Lyrics from the movie Jab Jab Phool Khile starring Shashi Kapoor, Nanda, Kamal Kapoor, Agha, Shammi, Bhalla, Mridula, Prayag Raj, Farida Dadi, Jatin Khan, Tun Tun, Shyam, Javed. The film was released in the year 1965. Music was composed by Kalayanji, Anandji and lyrics were penned by Anand Bakshi.

Movie Details

Movie: Jab Jab Phool Khile

Singer/Singers: Lata Mangeshkar, Mohammed Rafi, Nanda, Suman Kalyanpur

Music Director: Kalayanji, Anandji

Lyricist: Anand Bakshi

Actors/Actresses: Shashi Kapoor, Nanda, Kamal Kapoor, Agha, Shammi, Bhalla, Mridula, Prayag Raj, Farida Dadi, Jatin Khan, Tun Tun, Shyam, Javed

Year/Decade: 1965

Music Label: Saregama India Limited

Song Lyrics in English Text

Yaha Mai Ajnabi Hu, Yaha Mai Ajnabi Hu
Mai Jo Hu Bas Wahi Hu, Mai Jo Hu Bas Wahi Hu
Yaha Mai Ajnabi Hu, Yaha Mai Ajnabi Hu

Kaha Sham-o-shehar Yeh Kaha Din-rat Mere
Bahut Rusva Huye Hain, Yaha Jasbat Mere
Nai Tahrib Hai Yeh, Naya Hai Yeh Jamana
Magar Me Aadami Hu Wahi Sadiyo Purana
Mai Kya Janu Yeh Baate, Jara Insaf Karna
Meri Gustakhiyo Ko Khudara Maaf Karna
Yaha Mai Ajnabi Hu, Yaha Mai Ajnabi Hu

Teri Baaho Me Dekhu Sanam Gairo Ki Baahe
Mai Laaunga Kaha Se Bhala Aisi Nigaahe
Yeh Koyi Raks Hoga, Koyi Dastur Hoga
Mujhe Dastur Aisa Kaha Manjur Hoga
Bhala Kaise Yeh Mera Lahu Ho Jaye Pani
Mai Kaise Bhul Jaau Mai Hu Hindustani
Yaha Mai Ajnabi Hu, Yaha Mai Ajnabi Hu

Mujhe Bhi Hai Shikayat, Tujhe Bhi Toh Gila Hai
Yahi Shikawe Hamari Mohabbat Ka Sila Hai
Kabhi Magarib Se Mashrik Mila Hai Jo Milega
Jahan Ka Phul Hai Jo Wahi Pe Wo Khilega
Tere Unche Mahal Me Nahi Mera Gujara
Mujhe Yad Aa Raha Hai Woh Chhota Sa Shikara
Yaha Mai Ajnabi Hu, Yaha Mai Ajnabi Hu
Mai Jo Hu Bas Wahi Hu, Mai Jo Hu Bas Wahi Hu
Yaha Mai Ajnabi Hu, Yaha Mai Ajnabi Hu

Song Lyrics in Hindi Text

कभी पहले देखा नहीं ये समाँ
ये मैं भूले से आ गया हूँ कहाँ

यहाँ मैं अजनबी हूँ -२
मैं जो हूँ बस वही हूँ -२
यहाँ मैं अजनबी हूँ -२

कहाँ शाम-ओ-सहर थे कहाँ दिन-रात मेरे
बहुत रुसवा हुए हैं यहाँ जज़्बात मेरे
नई तहज़ीब है ये नया है ये ज़माना
मगर मैं आदमी हूँ वही सदियों पुराना
मैं क्या जानूँ ये बातें ज़रा इन्साफ़ करना
मेरी ग़ुस्ताख़ियों को ख़ुदारा माफ़ करना
यहाँ मैं अजनबी …

तेरी बाँहों में देखूँ सनम ग़ैरों की बाँहें
मैं लाऊँगा कहाँ से भला ऐसी निगाहें
ये कोई रक़्स होगा कोई दस्तूर होगा
मुझे दस्तूर ऐसा कहाँ मंज़ूर होगा
भला कैसे ये मेरा लहू हो जाए पानी
मैं कैसे भूल जाऊँ मैं हूँ हिन्दोस्तानी
यहाँ मैं अजनबी …

मुझे भी है शिकायत तुझे भी तो गिला है
यही शिक़वे हमारी मोहब्बत का सिला हैं
कभी मग़रिब से मशरिक़ मिला है जो मिलेगा
जहाँ का फूल है जो वहीं पे वो खिलेगा
तेरे ऊँचे महल में नहीं मेरा गुज़ारा
मुझे याद आ रहा है वो छोटा सा शिकारा
यहाँ मैं अजनबी