Skip to content

Sab Me Wohi Raam Hai, Song Lyrics

    Suman Kalyanpur Song Song Lyrics

    Sab Me Wohi Raam Hai, Song Lyrics from Movie Naag Pooja. This Song sung by Asha Bhosle, Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur, Usha Khanna. Music given by Usha Khanna & Lyrics written by Bharat Vyas, Irshad. Star cast of this movie are Sujit Kumar, Sanjanan, Indira Billi, Mohan Choti

    Movie Details

    Movie: Naag Pooja

    Singer/Singers: Asha Bhosle, Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur, Usha Khanna

    Music Director: Usha Khanna

    Lyricist: Bharat Vyas, Irshad

    Actors/Actresses: Sujit Kumar, Sanjanan, Indira Billi, Mohan Choti

    Year/Decade: 1971

    Music Label: Saregama Music

    Song Lyrics in English Text

    Chhote Munh Se Badi Baat
    Kahta Hun Sune Ae Insaano
    Upar Ki Chamak Par Mat Jaao
    Bhitar Ki Aatma Pahchaano
    Nafrat Karne Waalo Aakhir
    Ye Bhi Hai Insaan
    Ho Skata Hai Isi Bhesh Me
    Aaye Ho Bhagwaan
    Ye Kurup Hai Kaala Hai
    Bechara Hai Lachaar
    Isi Rup Me Kabhi Kabhi
    Prabhu Lete Hai Avtaar

    Sab Me Wahi Raam Hai
    Sab Me Wahi Shyaam Hai
    Sabki Ek Aatma Hai
    Alag Alag Hai Naam
    Sabki Ek Aatma Hai
    Alag Alag Hai Naam

    Aadmi Ke Rup Rang Pe Na Jaaiye
    Uske Ang Me Chhupe Prabhu Ko Paaiye
    Dil Kisi Ka Bhul Se Na Dukhaaiye
    Jo Gira Hua Hai Use Gale Lagayiye
    Sab Me Wahi Raam Hai
    Sab Me Wahi Shyaam Hai
    Sabki Ek Aatma Hai
    Alag Alag Hai Naam
    Sabki Ek Aatma Hai
    Alag Alag Hai Naam

    Najar Na Churaaiye Kisi Garib Se
    Uski Aankh Jhaankiye Jara Karib Se
    Uski Ek Palak Me Chhupe Sitaraam Hai
    Aur Dusre Palak Me Radhe Shyaan Ahia
    Sab Me Wahi Raam Hai
    Sab Me Wahi Shyaam Hai
    Sabki Ek Aatma Hai
    Alag Alag Hai Naam
    Sabki Ek Aatma Hai
    Alag Alag Hai Naami

    Also Read  Bahut Haseen Hai Tumhari Aankhe Song Lyrics - Mohammad Rafi

    Song Lyrics in Hindi Text

    छोटे मुँह से बड़ी बात
    कहता हूँ सुनो ऐ इंसानों
    ऊपर की चमक पर मत जाओ
    भीतर की आत्मा पहचानों
    जफ़रत करने वालो आलिर
    वे भी है इंसान
    हो सकता हैं इसी भेष में
    आये हो भगवान
    बे कुरूप है काला है
    बेचारा है लाचार
    इसी रुप में कभी कभी
    प्रभु लेते हैं अवतार
    सब में वही राम हैं
    सब में वही श्याम
    सबकी एक आत्मा
    अगल अगल हैं नाम
    सबकी एक आत्मा
    अगल अगल हैं नाम
    आदमी के रुप रंग पे ना जाइए
    उसके अंग में छुपे प्रभु को पाइए
    दिल किसी का भूल से ना दुखाइए
    जो गिा हुआ हैं उसे गले लगाइए
    सब में वही राम हैं
    सब में वही श्याम
    सबकी एक आत्मा
    अगल अगल हैं नाम
    सबकी एक आत्मा
    अगल अगल हैं नाम
    नज़र नही चुराइए किसी गरीब से
    उसकी आँख झांकिए जरा करीब से
    उस्सकी एक पलक में छुपे सीताराम है
    और दुसरे पलक में राधे श्याम हैं
    तय सब में वही राम हैं
    सब में वही श्याम
    सबकी एक आत्मा
    अगल अगल हैं नाम
    सबकी एक आत्मा
    न अगल अगल हैं नाम