Haseeno Ka Deedar Karna, Song Lyrics

Haseeno Ka Deedar Karna Song Lyrics

Haseeno Ka Deedar Karna, Song Lyrics from Movie Pyar Ki Baazi. This Song sung by Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur, Geeta Dutt, Kamal Barot, Usha Mangeshkar, Mahender Kapoor. Music given by Jimmy & Lyrics written by Indiwar, Gauhar Kanpuri, Akhtar Rumani. Star cast of this movie are Jagdeep, Vijaya Chaudhary, Anuradha, Paro, Anant Kumar

Movie Details

Movie: Pyar Ki Baazi

Singer/Singers: Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur, Geeta Dutt, Kamal Barot, Usha Mangeshkar, Mahender Kapoor

Music Director: Jimmy

Lyricist: Indiwar, Gauhar Kanpuri, Akhtar Rumani

Actors/Actresses: Jagdeep, Vijaya Chaudhary, Anuradha, Paro, Anant Kumar

Year/Decade: 1967

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Ha Bade Hasin Hain Sar Ko Jhukaye Baithe Hain
Laga Ke Aag Ye Daman Bachaye Baithe Hain
Mera Bas Chale To Hazaaro Me Kah Du
Hoye Mera Bas Chale To Hazaaro Me Kah Du
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain
Agar Husn Chehre Se Parda Hata De
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain
Mera Bas Chale To Hazaaro Me Kah Du
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain

Kya Baya Kijiye Hasino Ka
Naaj Walo Ka Mehjino Ka
Humne To Inko Dekha Bhala Hain
Kaali Julfe Hain Dil Bhi Kala Hain
Inke Fande Me Jo Bhi Aata Hain
Haye Bemaut Mara Jata Hain
Kahan Tak Koi Apne Dil Ko Sambhale
Khuda Inki Chaalo Se Hume Bacha Le
Are Gazab Hain
Gazab Hain Naajo Andaaz Inka
Ke Yaha Koi Ikraar Karna Bura Hain
Yaha Koi Ikraar Karna Bura Hain
Agar Husn Chehre Se Parda Hata De
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain

Inki Shola Byani Ae Tauba
Inki Jalti Nishani Ae Tauba
Yu To Kahne Ko Bhole Bhale Hain
Aastino Me Saap Paale Hain
Inke Fande Me Jo Bhi Aata Hain
Sar Patkta Hain Tilmilata Hain
Uljhi Uljhi Siinki Baate
Kis Kayamat Ki Inki Ghaate Hain
Fansate Hain Baato Me Uljha Ke Humko
Kabhi Inse Takrar Karna Bura Hain
Kabhi Inse Takrar Karna Bura Hain
Mera Bas Chale To Hazaaro Me Kah Du
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain

Pyari Surat Pe Inki Na Jana
Ye Bana Baiththe Hain Diwana
Hain Ye Jalaad Ye Sitamgar Hain
Inke Sine Pe Haye Pathar Hain
In Buthon Ke Fareb Me Aana
Sar Ko Hain Pathron Se Takrana
Kahan Tak Hum Inka Fasana Sunaye
Are Kahan Tak Hum Bhala Chot Pe Chot Khaye
Khuda Ki Kasam In Hasino Ke Aage
Mohabbat Ka Ijhaar Karna Bura Hain
Mohabbat Ka Ijhaar Karna Bura Hain
Agar Husn Chehre Se Parda Hata De
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain

Humpe Mushkil Sitam Ye Karte Hain
Is Tarah Se Karam Ye Karte Hain
Baat Hoti Hain Jab Kayamat Ki
Ye Humara Hi Naam Lete Hain
Har Tarike Se Humko Daste Hain
Mithi Baato Se Humko Daste Hain
Hume Apna Daman Bachana Padega
Ke Parde Pe Parda Girana Padega
Samjhate Nahi Hain Wafadaariyon Ko
Yaha Bhulkar Pyar Karna Bura Hain
Yaha Bhulkar Pyar Karna Bura Hain
Mera Bas Chale To Hazaaro Me Kah Du
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain
Hasino Ka Didar Karna Bura Hain

Agar Husn Chehre Se Parda Hata De
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain
To Jalwao Se Inkaar Karna Bura Hain

Song Lyrics in Hindi Text

हाँ बड़े हसीन हैं सर को झकाएँ बैठे हैं
लगा के आग वे दामन बचाएँ बैठे हैं
मेरा बस चलें तो हज़ारों में कह दूँ
होए मेरा बस चलें तो हज़ारों में कह दूँ
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं.
अगर हुआ चेहरे से पर्दा हटा दे
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं
मेरा बस चलें तो हज़ारों में कह दूँ
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं.
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं.
क्या बयां कीजिए हसीनों का
नाज वालो का महजिनो का
हमने तो इनकों देखा भाला हैं
काली जुल्े हैं दिल भी काला हैं
इनके फंदे में जो भी आता हैं
हाय बेमौत मारा जाता हैं
कहाँ तक कोई अपने दिल को संभाले
खुदा इनकी चालों से हमे बचा ले
आरे गजब हैं
गज़ब हैं नाजों अंदाज़ इनका
के यहाँ कोई इकरार करना बुरा हैं
यहाँ कोई इकरार करना ढुरा हैं
अगर हुआ चेहरे से पर्दा हटा दे
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं
इनकी शोला बयानी ऐ तौबा
इनकी जलती निशानी ऐ तौबा
यूँ तो कहे को भोले भाले हैं
आस्तीनों में साँप पाले हैं
इनके फंदे में जो भी आता हैं
सर पटकता हैं तिलमिलाता हैं
उलझी उलझी सी इनकी बातें
किस क्वामत की इनकी घाते हैं
फँसाते हैं बातो में उलझा के हमको
कभी इनसे तकदार करना ढुरा हैं
कभी इनसे तकदार करना ढुरा हैं
मेरा बस चलें तो हज़ारों में कह दूँ
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं.
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं.
प्यादी सूरत पे इनकी ना जाना
ये बना बैठते हैं दीवाना
हैं वे जलाद ये सितमगर हैं
इनके सिने पे हाव पत्थर हैं
इन बुत के फ़रेब में आना
सर कों हैं पत्थरों से टकराना
कहाँ तक हम इनका फ़साना बनाए
अरे कहाँ तक भल्षा चोट ऐ चोट खाए.
खुदा की कसम इन हसीनों के आगे
मोहब्बत का इजहार करना बुरा हैं
मोहब्बत का इजहार करना ढुरा हैं
अगर हुआ चेहरे से पर्दा हटा दे
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं
हमपे मुश्किल सितम ये करते हैं
इस तरह से करम वे करते हैं
भाग॑ कै बात होती हैं जब क़यामत की
ये हमारा ही नाम लेते हैं
हर तरीकें से हमको डसते हैं
मीठी बातो से हमको डते हैं
हमे अपना दामन बचाना पड़ेगा
के पर्दे ऐ पर्दा गिराना पड़ेगा.
समझते नहीं वे वफादारियों को
यहाँ भूलकर प्यार करना ढुरा हैं
यहाँ भूलकर प्यार करना ढुरा हैं
मेरा बस चलें तो हज़ारों में कह दूँ
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं.
हसीनों का दीदार करना बुरा हैं.
अगर हुआ चेहरे से पर्दा हटा दे
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं
तो जलवों से इंकार करना दुरा हैं