ये आइना Yeh Aaina Song Lyrics

Yeh Aaina Song Lyrics

Yeh Aaina Lyrics, from the movie Kabir Singh. This song is sung by Shreya Ghoshal and the movie was released in the year 2019. Music was composed by Amaal Mallik and lyrics were penned by Irshad Kamil.

Movie Details

Movie: Kabir Singh 

Singer/Singers: Shreya Ghoshal

Music Director: Amaal Mallik

Lyricist: Irshad Kamil

Year/Decade: 2019

Music Label: T-Series

Song Lyrics in English Text

Yeh aaina hai ya tu hai
Jo roz mujhko sanwaare
Itna lagi sochne kyun
Main aajkal tere baare

Tu jheel khamoshiyon ki
Lafzon ki main toh lehar hoon
Ehsaas ki tu hai duniya
Chhota sa main ek shehar hoon

Yeh aaina hai ya tu hai
Jo roz mujhko sanwaare

Khud se hai agar tu bekhabar bekhabar
Rakh loon main tera khayal kya
Chupke chupke tu nazar mein utar
Sapno mein loon main sambhaal kya
Sapno mein loon main sambhaal kya

Main daud ke paas aaun
Tu neend mein jo pukaare
Main ret hoon tu hai dariya
Baithi hoon tere kinaare

Yeh aaina hai ya tu hai
Jo roz mujhko sanwaare

Tanha hai agar tera safar humsafar
Tanhaai ka main jawaab hoon
Hoga mera bhi asar tu agar
Padh le main teri kitaab hoon
Padh le main teri kitaab hoon

Seene pe mujhko sajaa ke
Jo raat saari guzaare
Toh main savere se keh doon
Mere shehar tu na aa re

Yeh aaina hai ya tu hai
Jo roz mujhko sanwaare

Song Lyrics in Hindi Text

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवरे
इतना लगे सोचने क्यूँ
मैं आजकल तेरे बारे

तू झील ख़ामोशियों की
लफ़्ज़ों की मैं तो लहर हूँ
एहसास की तू है दुनिया
छोटा सा मैं एक शहर हूँ

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवरे

ख़ुद से है अगर तू बेख़बर
बेख़बर रख लूँ मैं तेरा ख़याल क्या
चुपके चुपके तू नज़र में उतर
सपनों में लूँ मैं सम्भाल क्या
सपनों में लूँ मैं सम्भाल क्या
मैं दौड़ के पास आऊँ
तो नींद में जो पुकारे
हिंदीट्रैक्स
मैं रेत हूँ तू है दरिया
बैठी हूँ तेरे किनारे

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवरे

तन्हा है अगर तेरा सफ़र
हमसफ़र तन्हाई का मैं जवाब हूँ
होगा मेरा भी असर
तू अगर पढ़ ले मैं तेरी किताब हूँ
पढ़ ले मैं तेरी किताब हूँ

सीने पे मुझको सज़ा के
जो रात सारे गुज़ारे
तो मैं सवेरे से कह दूँ
मेरे शहर तू ना आ रे

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवरे