मंज़ूर-ए-खुदा Manzoor-e-Khuda Song Lyrics

Manzoor-e-Khuda Song Lyrics

Manzoor-e-Khuda Lyrics, from the movie Thugs Of Hindostan. This song is sung by Shreya Ghoshal, Sunidhi Chauhan, Sukhwinder Singh and the movie was released in the year 2018. Music was composed by Ajay-Atul and lyrics were penned by Amitabh Bhattacharya.

Movie Details

Movie: Thugs Of Hindostan 

Singer/Singers: Shreya Ghoshal, Sunidhi Chauhan, Sukhwinder Singh

Music Director: Ajay-Atul

Lyricist: Amitabh Bhattacharya

Year/Decade: 2018

Music Label: YRF Music

Song Lyrics in English Text

Baba lauta de mohey gudiya mori
Angana ka jhoolna bhi
Imli ki daar waali muniya mori
Chandi ka painjna bhi

Ik haath mein chingariyan
Ik haath mein saaz hai
Hansne ki hai aadat humein
Har gham pe bhi naaz hai

Aaj apne tamaashe pe mehfil ko
Karke rahenge fida
Jab talak na karein jism se jaan
Hogi nahi ye juda

Manzoor-e-Khuda
Manzoor-e-Khuda
Anjaam hoga humara jo hai
Manzoor-e-Khuda
Manzoor-e-Khuda (Manzoor-e-Khuda)
Manzoor-e-Khuda (Manzoor-e-Khuda)
Toote sitaaron se roshan huaa hai
Noor-e-Khuda

Ho chaar din ki ghulami
Jism ki hai salaami
Rooh toh muddaton se aazaad hai
Ho.. hum nahin hain yahan ke
Rehne wale jahaan ke
Woh sheher aaasman mein aabaad hai

Ho khilte hi ujadna hai
Milte hi bichhadna hai
Apni toh kahaani hai yeh

Kaagaz ke shikaare mein
Dariya se guzarna hai
Aisi zindagaani hai yeh

Zindagani ka humpe jo hai karz
Kar ke rahenge adaa
Jab talak na karein jism se jaan
Hogi nahi ye juda

Manzoor-e-Khuda
Manzoor-e-Khuda
Anjaam hoga humara jo hai
Manzoor-e-Khuda
Manzoor-e-Khuda (Manzoor-e-Khuda)
Manzoor-e-Khuda (Manzoor-e-Khuda)
Toote sitaaron se roshan huaa hai
Noor-e-Khuda

Baba lauta de mohey gudiya mori
Angana ka jhoolna bhi
Imli ki daar waali muniya mori
Chandi ka painjna bhi

Amitabh Bachchan Dialogue
Aazaadi hai gunaah
Toh qubool hai sazaa
Ab toh hoga wohi
Jo hai Manzoor-e-Khuda

Song Lyrics in Hindi Text

बड़ा लौटा दे मोहे गुड़िया मोरी
अंगना का झूलना भी
इमली की डार वाली मुनिया मोरी
चाँदी का पैन्जना भी

इक हाथ में चिंगारियां
इक हाथ में साज़ है
हंसने की है आदत हमें
हर ग़म पे भी नाज़ है

आज अपने तमाशे पे महफ़िल को
करके रहेंगे फ़िदा
जब तलक ना करें जिस्म से जान
होगी नहीं ये जुदा

मंज़ूर-ए-खुदा
मंज़ूर-ए-खुदा
अंजाम होगा हमारा जो है
मंज़ूर-ए-खुदा
मंज़ूर-ए-खुदा (मंज़ूर-ए-खुदा)
मंज़ूर-ए-खुदा (मंज़ूर-ए-खुदा)
टूटे सितारों से रोशन हुआ है
नूर-ए-खुदा

हो चार दिन की गुलामी
जिस्म की है सलामी
रूह तो मुद्दतों से आज़ाद है
हो हम नहीं हैं यहाँ के
रहने वाले जहां के
वो शहरे आसमां में आबाद है

हो खिलते ही उजाड़ना है
मिलते ही बिछड़ना है
अपनी तो कहानी है ये

कागज़ के शिकारे में
दरिया से गुज़ारना है
ऐसी जिंदगानी है ये

जिंदगानी के हमपे जो है क़र्ज़
कर के रहेंगे अदा
जब तलक ना करें जिस्म से जान
होगी नहीं ये जुदा

मंज़ूर-ए-खुदा
मंज़ूर-ए-खुदा
अंजाम होगा हमारा जो है
मंज़ूर-ए-खुदा
मंज़ूर-ए-खुदा (मंज़ूर-ए-खुदा)
मंज़ूर-ए-खुदा (मंज़ूर-ए-खुदा)
टूटे सितारों से रोशन हुआ है
नूर-ए-खुदा

बड़ा लौटा दे मोहे गुड़िया मोरी
अंगना का झूलना भी
इमली की डार वाली मुनिया मोरी
चाँदी का पैन्जना भी

आज़ादी है गुनाह
तो कुबूल है सज़ा
अब तो होगा वोही
जो है मंज़ूर-ए-खुदा